Saturday, March 29, 2014

भगवान को खाँसी आयी थी !

जब कहा था तुमने प्यार हुआ
और मैं भी तैयार हुआ
….. तो ज़िन्दगी ने
ऐसी कड़क छौंक लगायी थी
कि भगवान को खाँसी आयी थी!

Thursday, March 20, 2014

मैं मनुष्य हूँ !

श्वान कितना भी उन्मत्त हो
भौंकता है, गुर्राता है ..  पर
स्वयं को काट न खाता है
मैं मनुष्य हूँ - यह दर्शाता है!